मंगलवार, 17 मार्च 2015

गाँव सभी अब हो गए,राज़नीति के मंच ! झूठी बातें कर रहे,पंचायत और पंच!!

गाँव सभी अब हो गए,राज़नीति के मंच !
झूठी बातें कर रहे,पंचायत और पंच!!

1 टिप्पणी: