मंगलवार, 17 मार्च 2015

चक्रव्यूह- सा हो गया,रिश्तों का संसार ! अपने ही लटका रहे,गर्दन पर तलवार !!

चक्रव्यूह- सा हो गया,रिश्तों का संसार !
अपने ही लटका रहे,गर्दन पर तलवार !!

1 टिप्पणी: