रविवार, 15 मार्च 2015

All the bird , never recognize ! I can tell them to hear tone cuckoo !!

जिनको पंछी की रही,नहीं कभी पहचान !
कह दूँ कैसे मैं उन्हें ,सुन कोयल की तान !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें