गुरुवार, 22 दिसंबर 2011

करे फूल से प्यार !

जो महके है फूल-सा, करे फूल से प्यार !
पल-पल बढ़ता ही चले, आगे सभी प्रकार!!

यदि धरती ना बांटती, फूलों का उपहार !
तब प्रेमी कैसे भला, कर पाते इज़हार !!

 रखता मन में जो सदा, फूलों-सी मुस्कान !
उसके सारे काम  तब , हो जाते आसान !!


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें