रविवार, 16 अक्तूबर 2011

कविता-सौरभ: टूट गए अनुबंध

कविता-सौरभ: टूट गए अनुबंध: मन रहता व्याकुल सदा, पाने माँ का प्यार ! लिखी मात की पतियाँ, बांचूं बार हज़ार !! अंतर्मन गोकुल हुआ, जाना जिसने प्यार ! मोहन हृदय में बसे, रह...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें