रविवार, 21 अगस्त 2011

बांटो हिंदी ज्ञान

हिंदी भाषा हैं रही , समता की पहचान !!
हिंदी ने पैदा किये , तुलसी औ' रसखान !!

हिंदी हो हर बोल में , हिंदी पे हो नाज़ !  
हिंदी मेंहोने लगे ,शासन के सब काज !!

दिल से चाहो तुम , अगर भारत का उत्थान !
परभाषा को त्याग के, बांटो हिंदी ज्ञान !!

हिंदी भाषा हैं रही, जन~जन की आवाज़!
फिर क्यों आंसू रो रही;राष्ट्रभाषा आज !!

हिंदी जैसी हैं नहीं , भाषा रे आसान !
परभाषा से चिपकता,फिर क्यों तू नादान !!

2 टिप्‍पणियां: