शनिवार, 20 अगस्त 2011

बन जाये इतिहास !

उठो चलो आगे बढ़ो , भूलो दुःख की बात !
आशाओं के रंग में , रंग लो फिर जज्बात !!

नए दौर में हम करें , ऐसा नव प्रयास !
शब्द जो ये कलम लिखे , बन जाये इतिहास !!

बने विजेता वो सदा , ऐसा मुझे यकीन !
आँखों में आकाश हो , पांवो तले जमीन !!

साथी कभी न छोड़ना , नयी भोर की आस !
अंधकार को चीर के, आता सदा प्रकाश !!




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें