गुरुवार, 18 नवंबर 2010

 माँ    -Dr. satywan saurabh

माँ ममता की खान हैं!
माँ दूजा भगवान्  हैं !!
माँ की महिमा अपरम्पार ,
माँ श्रेष्ठ और महान  हैं !!!
                           
                              माँ कविता ,माँ हैं कहानी !
                              माँ हैं गीता की जुबानी !!
                              माँ तो सिर्फ माँ ही हैं ,
                              न हिन्दुस्तानी ,न पाकिस्तानी !!!
 माँ हैं फूलों की बहार !
माँ सरस सुरीली सितार !!
माँ ताल हैं ;माँ लय हैं ,
माँ हैं जीवन की झंकार  !!
                                          माँ वेद हैं ,माँ ही गीता !
                                          माँ बिन ये  jug rita   !!
                                          माँ kali माँ saraswati ,
                                         माँ kaushlya माँ sita !!

                                             -Dr. satywan  saurabh  ,333 कविता niketan, badwa bhiwani hariyana-127045

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें